सुरेन्दर के सपनो वाली चुल्ल

दिनों की लड़ी लगी पड़ी है। पहला जाता है, दूसरा आता है। वार बदलते है, पर इनके टाइप एक जैसे रहते है। सारे दिन एक जैसे है। मैं तुम्हे ये सब इसलिए नही बता रहा कि मुझे तुमसे सहानुभूति चाहिए। मुझे अपना दुःख भी ना बांटना है। बस बात इतनी है कि पूरे दिन में जो मजाक होते है, उन पर मैं रोता हूँ।

आज शिवरात्रि है। सवेरे मैं मंदिर के बाहर खड़ा कांवड़ देख रहा था कि सुरेन्दर टकरा गया। उसकी आँखें सुल्फि सी थी, जैसे की सोया ना हो। निताश तुझे उससे बात ना करनी चाहिए थी, ये बात अब मेरे दिमाग में अब आती है। पर बात मैंने ना की थी। वो खुद मेरे नजदीक आया था और अपनी सपनो वाली बात बताई थी। कि किस तरह उसने अपने घूमने-फिरने का सपना पूरा किया था और कैसे वो दोबारा एक अलग जगह घूमने जायेगा। ये दुनिया के बाशिंदे है। इन सबकी तशरीफ़ में चुल्ल रहती है कि इसको जब तक कही टेका ना जाए वो शांत ना होती है। उसने अपनी चुल्ल मुझे दे दी। दिन अंत होता है, शिव की सौगंध है कि सब सच कहूँगा। मैं घर बैठा अपने कॉलेज खुलने की राह देखता काटता हूँ। घूमना-फिरना मेरा गाँव के फ्लैटों वाले रोड तक सीमित है। अब मुझे जो दुनिया देखने की ख्वाहिश है, ये पूरी ना होगी।

कोसने को मेरे पास उस सुरेन्दर को लेकर कुछ नही है। यूँ तो मैं अपने मन को कोस सकता हूँ, पर मन मेरा है। अपना है। सुरेन्दर मनीपुर का सबसे बकवास इंसान है। उसके मुँह से पहले बीड़ी निकलती है, फिर उसका धुँआ और अंत में उसकी बकवास। पहले उसकी बकवास सपना डांसर की नयी वीडियो ढूँढने को लेकर थी और अब सपना पूरा करने की है। उस पर एक नजर से कतई ना लगता है कि उसके कुछ सपने होंगे। कमतर आंकना भूल है। पर मेरे गुरूजी कहते थे कि “एस्पेक्टशन एंड एक्सेप्शन आर ऑलवेज देयर।” सुरेन्दर उन मानुसो में से ना है जिनके सपने घूमने-फिरने जैसे होते है। ये शौक शहरी चोंचला है। ये उन तक ही अच्छा है। पर इसके किटाणु संक्रामक है। बातों से फैलते है। सुरेन्दर ने घूमने-फिरने के किटाणु मुझे दे दिए है।

मैंने घूमना-फिरना दूर से देखा है। मेरे दोस्त कही ना कही घूमते रहते है। मनाली, लेह, लद्दाख, दार्जिलिंग फलाना धिमकाना। ये जगह मैंने किताबो में देखि है। वो वहां असल में घूमते है। मेरी बातों में जलन की बदबू दिखे मगर वो है नही। वो मेरी घुटन है। मेरी आसपास की घुटन। ये मुझे अच्छे से जानती है और मैं इसे। इस घुटन से बचने का तरीका है सैर सपाटा। ये बात मुझे पता है। पर इस सैर सपाटे की दवादारू महंगी पुड़िया है। सपने ऊँचे भले ही देखने बढ़िया आदत है। पर ऊँचाई महंगी होती है। यथार्थ में जमीन पैरो के लिए और नीचे मनुष्यो के लिए एक खाली जेब बड़ा ही बदसूरत आइना माफिक है।

लाईनो के मध्य अर्थ मत ढूँढना। ग़ुम जाओगे। अनेक बातों की एक बात है कि मैं एक आम आदमी है। मेरी साधारणता मेरी विशेषता है। मैं जिस चीज को छूता हूँ, वो साधारण हो जाती है। सपने महंगे है। मैंने उन्हें देखा है, पर छुआ नहीं। मैं मित्रो के साथ मॉल में घूमा हूँ। शोरूम्स में  ग्लास परे मॉडल को ताड़ा है। उनके पहने कपड़ो की कुशल कारीगरी और कपड़े की बुनावट को देखा है। शोरूम की लाइट्स और उसकी ए०सी० वाली ठण्डी हवा को महसूस किया है। उनमे आने वाली जनता के ढंग को देखा है। लड़कियों के गोरेपन पर उनकी हंसी को देखा और सुना है। मैकडोनाल्ड्स और डोमिनोस जैसे जगह पर खानपीन के वस्तुओं पर सोचा है। मॉल आगे खड़ी मर्सीडीज, ऑडी और BMW की लम्बी कारों को सराहा है। सिनेमा में एक बार घूमकर देखा है। सब कुछ ‘ए क्लास अपार्ट’ है। अब मेरे बताने के ढंग के ऊपर ना जाना कि मेरा तुम्हे बताना मेरी मजबूरी की पुकार है कि मुझे तुमसे मदद चाहिए। मुझे सब अच्छा लगा। परन्तु अच्छे लगने का अर्थ ये नहीं है कि उस वस्तु की जरूरत है। जहर का स्वाद भले ही श्रेष्ठ हो, परंतु उसे पीना श्रेष्ठ नहीं है। कुछ ऐसा ही हिसाब मेरा इन सब चीजो से है। गाँव में रहते हुए छोटी दुनिया में छोटी सोच विकसित की। अब ये जो शहरी कल्चर है, ये चोंचला है। जनता इसे फॉलो करती है क्योंकि वो कर सकते है। पर इसका मतलब ये नहीं की वो सब के लिए है। विज्ञापन देखना बुद्धि भंग करता है। अनावश्यक चीजो को जिंदगी का अभिन्न अंग दर्शाना इसका मकसद है। कुछ ऐसा ही इन सब शहरी चोंचलो के साथ है। इनका शहरी कल्चर इनकी शहरी जिंदगी का विज्ञापन है। मेरी सोच का दायरा सीमित भले हो, परन्तु सीमित सच बड़े झूठ से सही है।

सुरेन्दर बकवास इंसान है। एक दिन में सपना देखना और उसे पूरा करना, प्रेरणा मनुष्य को क्षणिक प्रेरित कर सकती है। कि वो अपने से ऊपर उठे और आगे बढे। परन्तु प्रेरणा दिमाग का नशा है। जितनी जल्दी चढ़ता है, उतनी ही जल्दी उतरता है। उसके घूमने-फिरने का बताना किस चीज की प्रेरणा थी, मुझे ना पता। वो अपनी फेंकू प्रवृति के लिये प्रसिद्ध है। उसका पिछला स्वप्न सपना डांसर के साथ पड़ोस के लखन के ब्याह में ठुमके मारने का था। उसका वो स्वप्न सच ना हुआ, पर उसने गाँव में सपना डांसर को प्रसिद्ध जरूर करवा दिया था।

मैं दिन को बैठकर देखूँ तो कुछ नया ना है। ये घूमने-फिरने की जो चुल्ल है, ये कल तक उतर जायेगी। फिर भी अभी ये दिमाग में घूम रही है, तो कुछ अजीब है। मन चंचल है। घूमने की सोच से खेलकर जब ऊब जायेगा, तो जल्दी ही कुछ नया पकड़ लेगा। बस मुझे तब तक अपने को संभालकर रखना है।

उपरोक्त लाईनो में स्वप्न है, बातें है, मज़बूरी है, दोस्त है, शौक है, गाँव है, शहर है, इनके लोग है, कार है, मदद है, बीमारी है, दवाई है, रूपए है, चोंचले है, सब है। बस वक़्त की कमी है।

बेटा, तूने सारी इज्जत लुटवा दी

मनीपुर में बीते सालों में पंचायत के चुनाव ना हुए थे। आसपास के गाँवों में हो चुके थे। पुराने सरपंच, पंचो को देखकर गाँव की जनता भी बोर हो गयी थी। पहले, उनको देखकर गांववाले जी-जी करते ना रुकते थे। जी आओ बैठो, जी सरकार हुक्का पी लो, जी सरकार बताओ नयी ताजा, जी म्हारा काम करवा दियो; सरपंच के लिए ये सब रोज की बात थी। बीते दिनों में ये सब चुकने लगा था। हुक्का तो दूर की बात, लोग बात भी मुँह बनाकर करने लगे थे। सरपंच मूर्ख ना था। वो सच जानता था। गांववाले उससे ऊब चले थे। पर चुनाव करवाना सरकार का कार्य था, इसलिए वो मजबूर था।

तो जब गाँव में चुनाव होने की खबर फैली, तो सारा गाँव खुश हुआ। सरपंच भी खुश था। अब उसे दोबारा इज्जत मिलने वाली थी।

चुनाव की खबर से सारा गाँव खुश था। पूरे गाँव का माहौल त्यौहार वरगा हो गया था। बैठके जमने लगी थी और हुक्के की मांग बढ़ चली थीं। चुनाव में कौन खड़ा होगा, किसकी क्या चाल रहेगी, कौन जीतेगा; बैठकों में इन मुद्दों पर हुक्कों की गुड़गुड के बीच जोर से बहस होती। इन बैठकों में बुजुर्ग अपनी खाट और पीपल के पेड़ तक सीमित रहे। युवा शक्ति इन्हें ठेकों तक लेकर गयी।

इस चहल के बीच सरपंच अपने घर पर रहा। वो उदास था। सरपंच रहते हुए उसे इज्जत की आदत पड़ गयी थी। अब उसे वो दोबारा ना मिलने वाली थी, इसलिए वो उदास था। चुनाव उसकी जगह उसका बेटा हरचंद लड़ने वाला था।

*****

हरचंद चुनाव को लेकर उत्साहित है। गाँव का सरपंच बनना उसका सपना है।

पिछले चुनावो में जब उसके पिता सरपंच बने, तो उसे कोई फर्क ना पड़ा था। सरपंच बनना कोई ऐसी उपलब्धि ना थी, जिस पर फकर किया जाए। उसकी यह सोच थी। पर इसे बदलते देर ना लगी थी। सरपंच बनते ही उसके पिता को ज्यादा इज्जत मिलने लगी थी। गलियों में चलते लोग राम-राम करते। हुक्के का पहला घूंठ उन्हें मिलता। ग्रामीण उन्हें सदा घेरे रहते। इज्जत का असर उनके घर पर भी पड़ा था। उसकी लिपाई-पुताई तो हुई ही, एक नया कमरा भी बना था। इज्जत भरपूर मात्रा में मिल रही थी, और सरपंच उसे चटकारे लेकर बटोर रहे थे। हरचंद ने इज्जत की पॉवर को अचंभित होकर देखा था। प्रभाव उस पर स्वाभाविक था। उसने गाँव का अगला सरपंच बनने की बात ठान ली थी।

*****

चुनाव में गाँव सरपंच के पद के दो उम्मीदवार आगे आये। पहला हरचंद, और दूसरा अर्जुन।

यह चुनाव पिछलों से भिन्न था। पिछले चुनाव बड़े-बुजुर्ग लोगो तक सीमित रहे थे। कारण दिया जाता रहा था कि गाँव का सरपंच एक अनुभवी और पढ़ा-सीखा हुआ इंसान होना चाहिए। एक जिसने घाट-घाट का पानी पिया हो और वक़्त देखा हो। पिछले चुनावों तक ये कारण चला। इस चुनाव में सरकार ने इस्कूल पढ़े-लिखे होने का नियम अड़ा दिया था। तर्क था कि सरपंच इंसान पढ़ा ना पर अक्षर पढ़ा हो। इस नियम के आगे सारे बुजुर्ग फेल हो गए थे। अब चुनाव युवा शक्ति लड़ रही थी।

हरचंद अपनी जीत को लेकर आश्वस्त था। अर्जुन को पूरा गाँव जानता था। वह सदा ठेकों या खेतों में पड़ा रहता था। ठेकों पर रहता तो दारू और खेतो पर सुट्टा पीता। वो भारी जेब वाला दिलदार था, तो गाँव की आधी युवा शक्ति उसके साथ रहती। उसके चुनाव लड़ने की बात से वो अचंभित हुआ था, पर खुश था। गांववाले कभी एक नशेड़ी को सरपंच ना बनायेंगे, वो ये सोचकर खुश था। अर्जुन के चुनाव लड़ने ने उसके सरपंच बनने का कार्य आसान कर दिया था।

*****

मनीपुर गाँव में चुनाव जीतने की तैयारियां शुरू हो चुकी है।

हरचंद को तैयारियों के लिए ज्यादा सोचना ना पड़ा था। बड़े-बुजुर्गो से उसे कोई मतलब ना था। उसके हिसाब से बड़े-बुजुर्गो का कार्य बस हुक्का पीना और खाट पर पड़े-पड़े शिकायत करना था। बदले में उसने किसी बड़े-बुजुर्ग के ना तो पैर छुए ना ही उन्हें इज्जत दी। उसके पिता सरपंच ने उसे चेताने की कोशिश की। बेटा बड़े लोगो की इज्जत करनी चाहिए, पिता सरपंच ने उसे कहा था। पर हरचंद ने उन्हें अनसुना कर दिया था। उसने अपना सारा ध्यान युवा शक्ति को खुश करने पर लगा दिया था। युवा शक्ति के हर वाहक को उसने अंग्रेजी दारु की बोतल तो दी ही, पर चकणे की दुकान पर अपने नाम से उनके लिए खाता भी खुलवा दिया था। उसने बड़े-बुजुर्गो का ख्याल ना किया, पर उन्हें मना भी ना किया। दिन में एक दो बुजुर्ग लोग जब उसके पास आते, तो खासी-ठण्ड की वजह बताकर लिटिल-लिटिल कहके बोतल ले जाते थे। उनका तर्क था कि लिटिल-लिटिल खाँसी का इलाज कर देती है।

हरचंद अपनी तैयारियों में लगा हुआ था। वही उसका प्रतिद्वंदी अपनी दिनचर्या में लगा रहता। उसने चुनाव जीतने के लिए कोई कार्य ना किया। रोज उठकर या तो ठेकों पर जाता या फिर खेतों में रहता। ऐसा प्रतीत होता था कि उसे चुनाव से कोई फर्क ना पड़ा था।

एक दिन, हरचंद अपने घर के बाहर खाट पर बैठा था। अभी एक पेटी युवा शक्ति को देकर आया था, तो आराम कर रहा था। सामने से अर्जुन आता दिखा तो बोला, “अर्जुन आज इस गली किस तरह?”

“भाई तुझसे मिलने आया बस।”, अर्जुन ने उत्तर दिया।

“आजा भाई। बैठके बात करेंगे।”

“और चुनाव की तैयारी कैसी चल रही है तेरी?”

“बस भाई सही है। तू बता।”

“भाई मैं भी कर ही रहा हूँ। सुन, कल पंचायत करवाई है। तुझे भी आना है। दोनों अपने-अपने विचार गांव के आगे रख लेवेंगे।”

“अरे भाई पंचायत तो ना आया जावेगा। खैर कुछ सेवा कर सकूँ तो बता दे?”

“यार ठेके पे बोतल ना मिल रही। तेरे पास बताई।”

इसके पश्चात, अर्जुन बोतल लेकर अपनी राह चला गया। हरचंद खाट उठाकर घर के अंदर चला गया।

*****

आज पंचायत है। पूरा गाँव पीपल के पेड़ तले इकट्ठा हुआ है। अर्जुन आराम से बैठा है। हरचंद नदारद है।

“हरचंद कहाँ है”, एक बुजुर्ग पूछते है।

“ताऊ घर पे ही है। बुलाया पर वो ना आता।”, एक युवा शक्ति का वाहक बोला।

“तो कोई ना। अर्जुन बेटा, तू शुरू कर।”

अर्जुन अपने स्थान से खड़ा हुआ। उसकी आँखें लाल है।

“गाँववालो, मैं अर्जुन हूँ। इस गाँव का निवासी। मेरे युवा भाइयो को मेरा नमस्कार, तो बड़े-बुजुर्गो को मेरा प्रणाम। पीछे बैठी मेरी माताओ को मेरा चरणस्पर्श। मैं सरपंच पद के लिए उम्मीदवार हूँ। मेरे पास कहने को ज्यादा कुछ नहीं है। आप ही की तरह, मैं भी इस गाँव में रहता हूँ और देखता हूँ कि इसमें कितने अभाव है। बच्चे इस्कूल नहीं जाते, गलियो में पानी भरा रहता है, बिजली मुश्किल से आती है इत्यादि। ये सब छोटी मुसीबतें है। सबसे बड़ी मुसीबत है कि गाँव का नौजवान नशे में फंसा है। इसकी वजह से वह निकम्मा हो गया है। गाँववालो, अगर मैं सरपंच बनता हूँ तो मैं आपको विश्वास दिलाता हूँ कि इस नशे की बुराई को जड़ से मिटाऊंगा।”

ये कहकर अर्जुन बैठ गया। गाँव के बुजुर्गो ने हरचंद के लिये दोबारा बुलावा भेजा, पर वो ना आया। अंत में उसके पिता सरपंच गए, पर वो फिर भी ना आया।

“वो पंचायत और गांव को कुछ ना समझता है। ऐसा सरपंच अपने किसी काम का ना।”, एक बुजुर्ग बोले।

“सही कहते हो आप। और तो पूरे गाँव में ये नशे वाली बुराई उसी की तो है।”, एक और बुजुर्ग बोल पड़े।

इसके बाद पूरा गाँव कुछ-कुछ बोलता रहा। इसका अंत अर्जुन को सबकी सहमति से सरपंच बनाकर हुआ।

*****
रात है।

हरचंद अपने कमरे में बैठा है। किवाड़ बंद है। किवाड़ पर हल्की दस्तक देकर उसके पिता बोलते है,
“बेटा, तूने कमाई हुई साड़ी इज्जत लुटवा दी।”

मुझे भूख लगी है

मैं भूखा हूँ। कितना वक़्त बीता, मुझे पता। तब सब काला था और कुछ नही दिखता था। अब सब दिख रहा है। मैं अब भी भूखा हूँ।

बड़े डब्बे में भी कुछ ना था। मैंने मुँह मारा था। मेरे साथी ने भी देखा था। बड़ी काली शोर वाली वही थी। उसमे खाना होता है। मैं नही गया। मैं भूखा था। मैं बैठा था। मेरा एक कोना था। मेरे पास में वे मुँह चला रहे थे। कुछ खा रहे थे। मैं देख रहा था। मैं खाने के लिए बोला। उनमे से एक उठा। मुझे खाना मिलना था। पर वो चिल्लाया। मैं भाग निकला। वो हंस रहा था।

मैं पत्थर वाली जमीन से भागा। मैं रेत पर गया। पैर गर्म होते थे। मैं कोने में गया। मैं पानी में बैठ गया। मुझे भूख लगी थी। मैं वहाँ रहा। आते-जाते वो मुझे देखते। मुझे भूख लगी थी। मैंने नहीं बोला। वो फिर चिल्लाते। मुझे भागना होता। मुझे भूख लगी थी। मैं वही रहा। मैंने आँखें बंद कर ली। मैं सो गया।

मैं उठा। मैं गली में चला। अब कुछ नही दिखता था। वे खाना दे देते थे। आज कोई नहीं था। मुझे खाना ना मिला। मुझे भूख लगी थी। मैं गली में चलता रहा। कुछ नही दीखता था।

एक जगह दीखता था। वहाँ वो थे। बहुत थे। मेरे साथी भी थे। खाना मिलेगा। मैं अंदर गया। वहाँ वो थे। मैं भूखा था। सब दिख रहा था। गली जैसा नही था। खाना भी था। गली में कोई नही था। वो यहाँ थे। यहाँ खाना था। मुझे भूख लगी थी। मैं कोने में गया। वहां खाना पड़ा था। मेरे साथी खा रहे थे। मुझे भूख लगी थी। मैंने खाना खाया। वे नही चिल्लाये। मैंने खाना नही माँगा। मैंने कोने मे खाया। गली में वो नही थे। वो यहाँ थे। वो भी खाना खाते थे। वे नही चिल्लाये। मैं अब भूखा नही था।

दिल टूटा और पूरी गली में आवाज़ उठी

बिलकुल अभी जागा हूँ। नींद गहरी भी नही हुई थी, कि अचानक हुए शोर ने उठा दिया। उठकर घर से बाहर आया तो देखा कि मैं अकेला ना था। सब अपने घर के बाहर थे। खुसर-पुसर चल रही थी। इनके बीच, वो शोर जोर-जोर से रोने की आवाज़ में तब्दील हो गया था।

मुझे ये जानने में रूचि ना थी कि इतना रोया क्यों जा रहा है या फिर सब अपने घर के बाहर क्यों है। दूसरो की खोज-खबर क्या रखता जब मेरी खुद की दुनिया ख़त्म हो रही थी। सोने से पहले एक दोस्त ने बताया था कि मेरे क्रश की शादी की तैयारी शुरू हो चुकी थी। उसके घरवालों ने उसका रिश्ता तय कर दिया था। ये सुनकर पहले तो अपने दोस्त को कोसा कि उसकी जुबान काली है, फिर उसके घरवालों को कोसा और अंत में दुनिया को बुरा-बुरा कहा। मुझे गुस्सा आ रहा था अपने आप पर और उसके घरवालों पर। उसके माँ-बाप अव्वल दर्जे के कंजर लग रहे थे। उसकी उम्र कोई 19 बरस भी मुश्किल होगी, कि शादी का प्लान बना दिया। जैसे कि वो बूढी गाय हो चली थी जो अब दूसरे के गले डालनी थी। मेरे प्यार का परिंदा उड़ा भी ना था, इससे पहले उसके किसी ने पर काट दिए थे। मैं असहाय था, बिल्कुल शोले के ठाकुर की तरह। चित्त में आया था कि गाँव की पानी की टंकी पर चढ़कर उसे माँगू। फिर याद आया कि गाँव में कोई पानी की टंकी नही है और ऐसी गर्मी में कोई अपने ए०सी० वाले कमरो से ना निकलेगा। ऊपर पंखा अपनी चाल चल रहा था, नीचे मैं बेहाल हो रहा था। कुछ बस में ना था। अंत में झक मारकर सो गया।

*****

जनता खुसर-पुसर कर रही थी। एक से पूछा तो पता लगा कि अगली गली में कनखू मर गया था। उसी के परिवार वाले रुदन कर रहे थे।

रविवार का दिन है। छुट्टी है। सब फुरसत में है। सब को आज ही मरना है, रोना है, रिश्ता तय करना है, दिल तोडना है और मुझे कड़वाहट का एहसास दिलाना है। कहते भी है कि फुरसत का काम इंसान का और जल्दबाज़ी का काम शैतान का।

कनखू की बात करुँ तो उससे जीवन में बात कम, पर उसके बारे में बात बहुत सुनी। वो देसी दारू का मग्गा मारके पांच  खेतो को भी एक बार में जोत देने के लिए मशहूर था। लोग तो यहाँ तक कहते थे कि वो पूरा मग्गा एक सांस में गटक जाता है। लोगो की बातें कितनी सच और कितनी झूठ, ये तो शायद उन्हें भी ना पता हो। खुद की बात करू तो आखरी बार उसे रेल स्टेशन के नजदीक देखा था। एक पेड़ तले पड़ा था। मुँह पर मक्खियां भिनभिना रही थी। पैरो में चप्पल ना थी। कपड़े तार-तार थे। बालों में रेत भरा पड़ा था। शायद अफवाह थोड़ी सच थी, और वो मग्गा मारके पड़ा था। थोड़ी दूर निकल जाने के बाद मुड़कर नजर डाली तो मक्खियां नजर से ओझल थी और उसकी बद-हालत छुप सी गयी थी। पेड़ के नीचे मानो आराम वाली नींद सो रहा था। बस वो दिन और आज का दिन, वो सो ही रहा है। बस उस वक़्त उसके आसपास भीड़ ना थी, मक्खियां थी।

बचपन में मैं और उसका लड़का, हम दोनों साथ खेलते थे। कंचा, गली वाली बैट-बॉल, पिट्ठू-गिंडी; बहुत खेल खेले थे हमने। मशहूर चलन है कि दारु वाले घर में क्लेश रहता है। सब इससे पीड़ित रहते है चाहे वो माँ-पिता हो या बच्चे। अब इस बात को ध्यान करुँ और पीछे का वाकया टटोलूँ तो पाता हूँ कि ऐसा कुछ ना था। वो मुझसे ज्यादा मोटा था। भागता भी मुझसे तेज था। पढाई का पता ना, मुझसे पीछे था दर्जे में। और कुछ ध्यान ना, बड़े होते हमारे मित्तर और वक़्त बिताने के साधन बदल चुके थे। पर जब भी उसे देखा, दूर से मौज में पाया।

अब मुझे उसके ऊपर रुदन बुरा लगता है। कानों में इसका स्वर घुसे आता है। लोगो और दुनिया पर फिर गुस्सा आता है। दोगलेपन की भी हद होती है। जब जिन्दा था तब किसी से ना सुध ना ली थी। सब बिजी थे। उलझे हुए थे जिंदगी में। अब मरणोपरांत क्या दिखा रहे है, खुद जाने।

*****

शाम हो आई है। अब किसी की आवाज़ ना आती है। बस पंखे की चर्र-चर्र सुनाई देती है।

मैं अभी भी गुस्से में हूँ। ये क्षणिक आवेश है, जानता हूँ वक़्त के साथ निकल जायेगा। दिन की गर्मी कुछ भारी भी लगने लगी है। विचार बिजली की तरह आ-जा रहे है। कभी उस पर, खुद पर, तो दुनिया पर गुस्सा आता है। उस पर गुस्सा जायज़ नही है। वो मेरे ख्यालो से अनभिज्ञ है। उसे मेरे वजूद का भी ख्याल ना होगा। गलती उसकी नही है, पर फिर भी मेरे क्रोध की भागी है। कम उम्र में ब्याह जरूर उसकी मर्जी के खिलाफ हो रहा होगा। बेचारी के सारे स्वपन टूटकर बिखर गए होंगें। अपने विवाह और अपने  माँ-पिता के बीच कैसे अपने आपको समेटती होगी वो। बिल्कुल गौ जैसी निरीह है, चुप रहेगी पर अपनी व्यथा ना कहेगी। इन सबके बावजूद क्रोध है। दुनिया पर यूँ है कि सब इसका छलावा है। सामाजिक बन्धनों को खोल दे तो मनुष्य एक-दूसरे को ख़त्म कर दे। पर फिर भी इस छलावे के सब बराबर भागीदार है। मैं, वो और सब इंसान। सब इसमें एक साथ है।

मेरे क्रोध का कोई कारण नही है। उसके विवाह का मेरे लिए कोई कारण नहीं है। दुनिया के चलने का भी कोई कारण नहीं है।

बिना किसी कारण के इस छलावे से मुक्ति, शायद मृत्यु का यही कारण है।

दिल टूटा और पूरी गली में आवाज़ उठी

बिलकुल अभी जागा हूँ। नींद गहरी भी नही हुई थी, कि अचानक हुए शोर ने उठा दिया। उठकर घर से बाहर आया तो देखा कि मैं अकेला ना था। सब अपने घर के बाहर थे। खुसर-पुसर चल रही थी। इनके बीच, वो शोर जोर-जोर से रोने की आवाज़ में तब्दील हो गया था।

मुझे ये जानने में रूचि ना थी कि इतना रोया क्यों जा रहा है या फिर सब अपने घर के बाहर क्यों है। दूसरो की खोज-खबर क्या रखता जब मेरी खुद की दुनिया ख़त्म हो रही थी। सोने से पहले एक दोस्त ने बताया था कि मेरे क्रश की शादी की तैयारी शुरू हो चुकी थी। उसके घरवालों ने उसका रिश्ता तय कर दिया था। ये सुनकर पहले तो अपने दोस्त को कोसा कि उसकी जुबान काली है, फिर उसके घरवालों को कोसा और अंत में दुनिया को बुरा-बुरा कहा। मुझे गुस्सा आ रहा था अपने आप पर और उसके घरवालों पर। उसके माँ-बाप अव्वल दर्जे के कंजर लग रहे थे। उसकी उम्र कोई 19 बरस भी मुश्किल होगी, कि शादी का प्लान बना दिया। जैसे कि वो बूढी गाय हो चली थी जो अब दूसरे के गले डालनी थी। मेरे प्यार का परिंदा उड़ा भी ना था, इससे पहले उसके किसी ने पर काट दिए थे। मैं असहाय था, बिल्कुल शोले के ठाकुर की तरह। चित्त में आया था कि गाँव की पानी की टंकी पर चढ़कर उसे माँगू। फिर याद आया कि गाँव में कोई पानी की टंकी नही है और ऐसी गर्मी में कोई अपने ए०सी० वाले कमरो से ना निकलेगा। ऊपर पंखा अपनी चाल चल रहा था, नीचे मैं बेहाल हो रहा था। कुछ बस में ना था। अंत में झक मारकर सो गया।

*****

जनता खुसर-पुसर कर रही थी। एक से पूछा तो पता लगा कि अगली गली में कनखू मर गया था। उसी के परिवार वाले रुदन कर रहे थे।

रविवार का दिन है। छुट्टी है। सब फुरसत में है। सब को आज ही मरना है, रोना है, रिश्ता तय करना है, दिल तोडना है और मुझे कड़वाहट का एहसास दिलाना है। कहते भी है कि फुरसत का काम इंसान का और जल्दबाज़ी का काम इंसान का।

कनखू की बात करुँ तो उससे जीवन में बात कम, पर उसके बारे में बात बहुत सुनी। वो देसी दारू का मग्गा मारके पांच  खेतो को भी एक बार में जोत देने के लिए मशहूर था। लोग तो यहाँ तक कहते थे कि वो पूरा मग्गा एक सांस में गटक जाता है। लोगो की बातें कितनी सच और कितनी झूठ, ये तो शायद उन्हें भी ना पता हो। खुद की बात करू तो आखरी बार उसे रेल स्टेशन के नजदीक देखा था। एक पेड़ तले पड़ा था। मुँह पर मक्खियां भिनभिना रही थी। पैरो में चप्पल ना थी। कपड़े तार-तार थे। बालों में रेत भरा पड़ा था। शायद अफवाह थोड़ी सच थी, और वो मग्गा मारके पड़ा था। थोड़ी दूर निकल जाने के बाद मुड़कर नजर डाली तो मक्खियां नजर से ओझल थी और उसकी बद-हालत छुप सी गयी थी। पेड़ के नीचे मानो आराम वाली नींद सो रहा था। बस वो दिन और आज का दिन, वो सो ही रहा है। बस उस वक़्त उसके आसपास भीड़ ना थी, मक्खियां थी।

बचपन में मैं और उसका लड़का, हम दोनों साथ खेलते थे। कंचा, गली वाली बैट-बॉल, पिट्ठू-गिंडी; बहुत खेल खेले थे हमने। मशहूर चलन है कि दारु वाले घर में क्लेश रहता है। सब इससे पीड़ित रहते है चाहे वो माँ-पिता हो या बच्चे। अब इस बात को ध्यान करुँ और पीछे का वाकया टटोलूँ तो पाता हूँ कि ऐसा कुछ ना था। वो मुझसे ज्यादा मोटा था। भागता भी मुझसे तेज था। पढाई का पता ना, मुझसे पीछे था दर्जे में। और कुछ ध्यान ना, बड़े होते हमारे मित्तर और वक़्त बिताने के साधन बदल चुके थे। पर जब भी उसे देखा, दूर से मौज में पाया।

अब मुझे उसके ऊपर रुदन बुरा लगता है। कानों में इसका स्वर घुसे आता है। लोगो और दुनिया पर फिर गुस्सा आता है। दोगलेपन की भी हद होती है। जब जिन्दा था तब किसी से ना सुध ना ली थी। सब बिजी थे। उलझे हुए थे जिंदगी में। अब मरणोपरांत क्या दिखा रहे है, खुद जाने।

*****

शाम हो आई है। अब किसी की आवाज़ ना आती है। बस पंखे की चर्र-चर्र सुनाई देती है।

मैं अभी भी गुस्से में हूँ। ये क्षणिक आवेश है, जानता हूँ वक़्त के साथ निकल जायेगा। दिन की गर्मी कुछ भारी भी लगने लगी है। विचार बिजली की तरह आ-जा रहे है। कभी उस पर, खुद पर, तो दुनिया पर गुस्सा आता है। उस पर गुस्सा जायज़ नही है। वो मेरे ख्यालो से अनभिज्ञ है। उसे मेरे वजूद का भी ख्याल ना होगा। गलती उसकी नही है, पर फिर भी मेरे क्रोध की भागी है। कम उम्र में ब्याह जरूर उसकी मर्जी के खिलाफ हो रहा होगा। बेचारी के सारे स्वपन टूटकर बिखर गए होंगें। अपने विवाह और अपने  माँ-पिता के बीच कैसे अपने आपको समेटती होगी वो। बिल्कुल गौ जैसी निरीह है, चुप रहेगी पर अपनी व्यथा ना कहेगी। इन सबके बावजूद क्रोध है। दुनिया पर यूँ है कि सब इसका छलावा है। सामाजिक बन्धनों को खोल दे तो मनुष्य एक-दूसरे को ख़त्म कर दे। पर फिर भी इस छलावे के सब बराबर भागीदार है। मैं, वो और सब इंसान। सब इसमें एक साथ है।

मेरे क्रोध का कोई कारण नही है। उसके विवाह का मेरे लिए कोई कारण नहीं है। दुनिया के चलने का भी कोई कारण नहीं है।

बिना किसी कारण के इस छलावे से मुक्ति, शायद मृत्यु का यही कारण है।

Short Story : माँ, शादी उलझन है (भाग – 2)

आज सातवाँ पीरियड गेम्स का था।

किसी पीरियड के वेकंट होने पर चलन था कि प्रिंसिपल मैडम किसी टीचर को भेज देती थी। आज जब हिस्ट्री की पुष्पा मैडम अनुपस्थित थी, तो प्रिंसिपल मैडम ने संजय सर को भेज दिया था। संजय सर पीटीआई थे। स्वभाव के शांत पर हट्ठी। आरम्भ में उन्हें गेम्स पीरियड के लिए मनाना मुश्किल था। क्लास के लड़को ने पढाई के प्रेशर से लेकर सब्जेक्ट की अच्छी तैयारी तक, सारी बातें कह दी थी। पर संजय सर का एक ही कथन था, “लड़को मैं तुम्हारी बात समझता हूँ। पर अकेले तुम्हारे कहने पर गेम्स पीरियड लगाना सही नही है।” फिर जब लड़कियों ने भी खेलने की इच्छा जताई, तो संजय सर के पास कोई बहाना शेष ना था।

लड़के फुटबॉल खेल रहे थे। लड़कियां पेड़ की छाँव में बैठी थी। प्रतीक्षा और पूजा, दोनों बैठकर घास की पाँख तोड़ रहे थे।

“तुझे पता है कल ‘सिया और हाथी’ में क्या हुआ?”, पूजा घास की और देखते हुए पूछती है।

“मुझे क्या पता। पूजा तुझे पता है ना कि मैं ये ‘सिया और हाथी’ और बाकी फ़ालतू शो ना देखती हूँ।”, प्रतीक्षा बोली।

“रहने दे तू,” पूजा ने नजर उठाई और प्रतीक्षा की ओर देखकर बोली, “सुप्रिया बता रही थी तेरे बारे में।”

अचानक राज खुलने पर प्रतीक्षा के मुख पर हैरानी के भाव उभर आये। सुप्रिया उस की दो साल छोटी बहन थी।

“झूठ बोलती होगी वो।”, अंत के क्षणों में भी स्वयं के बचाव में प्रतीक्षा बोल पड़ी।

“अब छोड़ ना ये दिखावा। बता कल का एपिसोड देखा तूने।”

“हां, देखा। बेचारी सिया का कैसे उस मोटे के साथ ब्याह कर दिया।”

“सही तो किया। वो भले हो मोटा, पर तूने पहले के एपिसोड में उसके गुण ना देखे क्या?”

“कैसे गुण?”

“वो छोटे बच्चों के साथ कितने प्यार से खेलता है। माँ-बाप का कितना लिहाज करता है। और तो, पूरा मोहल्ला कितना अच्छा बोलता है उसके बारे में। ये गुण।”

“तो इन गुणों का क्या है। सिर्फ इनके सहारे जीवन थोड़ी जिया जाता है। आदमी को दिखने में सलोना भी होना चाहिए।”

“देखने-दिखने में इंसान कुछ वक़्त बाद ऊब जाता है। पर गुण, मेरी प्रतीक्षा, आगे यही मायने रखते है।”

“ये कैसी बात कर रही है तू?”

“मेरे भैया-भाभी है ना। शादी से पहले दोनों एक-दूसरे से दूर ना हटते थे, सदा संग रहते थे। पर अब तू देख उन्हें, दोनों दिन भर के बाद जब मिलते है, मुश्किल से चार बात करते है।”

“पर…”

प्रतीक्षा के बात कहने से पहले ही, उन दोनों के पास फुटबॉल आकर गिरती है।

“ऐ पूजा। फुटबॉल दे जरा।” दूर से अविनाश बोला था।

“खुद ले जा।”

अगले पल पूजा प्रतीक्षा का हाथ पकड़कर उसे उठा ले गयी थी। प्रतीक्षा चल तो दी थी, पर उसने फुटबॉल की तरफ एक नजर देखा था। शायद उसने फुटबॉल देनी चाही थी।

*****

रात का वक़्त है। प्रतीक्षा टीवी के सामने जमी बैठी है।

“प्रतीक्षा रोटी बन गई। ले जा।” माँ रसोई से बोलती है।

“हां, आती हूँ।” टीवी के सामने बैठी प्रतीक्षा बोलती है।

थोड़ी देर बाद, माँ फिर बोलती है, ” सुप्पी, तू आकर ले जा खाना। इसको तो फुरसत ना।”

यह हर रात का रूटीन था। जैसे ही सात बजते, प्रतीक्षा टीवी के सामने बैठ जाती और तीन घण्टे बाद ही उठती। इन तीन घण्टो में, उसे किसी चीज की सुध ना रहती थी। वो खाना खा ले, माँ को कई बार टीवी भी बन्द करना पड़ता था। माँ और सुप्रिया, दोनों अनजान थे कि प्रतीक्षा को क्या दिखता था टीवी में। एक दिन पूजा ने उसकी इस आदत का हल्का-फुल्का मजाक बनाया था तो पूजा पूरे दिन उससे ना बोली थी। पता नही क्या था टीवी में जिस कारण प्रतीक्षा अपनी दुनिया भूल जाती थी।

“ऐ चुहिया, ले खाना खा ले।” सुप्रिया ने उसके सामने प्लेट रखते हुए कहा।

“हां खाती हूँ।” खोई हुई प्रतीक्षा बोली।

“खा ले जल्दी।” सुप्रिया बोली, “तेरा हीरो कहीं ना भागकर जाने वाला।”

इस बात पर प्रतीक्षा झल्ला उठी। आवेश में उठी और बोली, “माँ समझा लो इसे। फिर मेरे साथ मजाक कर रही है।”

“माँ मैंने कुछ ना किया। खाना खाने को कहा तो ये चिल्ला उठी।”

“माँ ये झूठ बोल रही है। इसने मेरे हीरो के बारे में बोला।”

“माँ झूठ ये बोल रही है। मैंने बस खाना खाने को कहा था।”

इससे पहले कि स्वयं के बचाव में और दलीलें पेश होती, कमरे में माँ का स्वर गूँज उठता है, “ऐ कनजरियों, दोनों चुप हो जाओ। सारा घर सर पे उठा रखा है। पढ़ने-लिखने के वक़्त कुछ ना करती दोनों, वैसे रौला कितना करवा लो। आन दो तुम्हारे पापा को।”

माँ की आवाज़ तेज और टीवी के कार्यक्रम की बैकग्राउंड स्कोर से भी ज्यादा उँची थी।

अगले पल दोनों बहने खाना खा रही थी। टीवी की वॉल्यूम भी कम हो गयी थी।

Short Story: माँ, शादी उलझन है (भाग 1)

आधी रात हो चली है। प्रतीक्षा अपने कमरे में बैठी है। दुल्हन की वेशभूषा में, सिर से पैर तक आभूषणों में सज्जित, वो दीवार की ओर देखती है। चेहरे पर कोई भाव दृश्य नहीं है, मानो मेकअप ने उन्हें नजरों से छिपा दिया हो। वह बस बैठी हुई दीवार को ताकती है। उसकी सखी उसके साथ है, परन्तु वह बालकनी में खड़ी है। दूर में बारात दिखती है, वो उसके बारे में बोल रही है।

प्रतीक्षा के आसपास इतना कुछ घटित हो रहा है, फिर भी वह इन सब से बेखबर लगती है। चुपचाप बैठी बस दीवार की और देखती है।

*****

सुबह के आठ बज रहे है। प्रतीक्षा घर के बाहर स्कूल बस के इंतजार में खड़ी है। उसकी सहेली पूजा अभी तक ना आई थी।

प्रतीक्षा सत्रह वर्ष की है। वह कदकाठी में कम, परन्त आवाज में बुलंद थी। बचपन ख़त्म होने तक उसे बाल छोटे रखने का शौक था। माँ ने कई बार बाल बड़े करनें को लेकर टोका था। छोटे बाल लड़कियों पर अच्छे नहीं लगते, माँ ने कहा था। पर उसने माँ की बाकी बातों की तरह ये बात भी टाल दी थी। पर जब से पूजा न अपने बड़े बालों में चोटी करनी शुरू कर दी थी, तब से उसने बाल बढ़ाने की ठान ली थी। अब वो रोजाना माँ से बालों में तेल की चम्पी कराती और चोटी करने को कहती। शुरू के एक-दो दिन माँ को ये अजीब लगा। लड़की बात कभी ना सुनती और अब अचानक बालो में तेल और चोटी, सोचकर माँ भी हैरान थी। सब सही था, परंतु उसके बाल छोटे थे। चोटी घनी ना बन पाती थी। इसके ऊपर उसकी छोटी बहन उसे ‘चोटी चुहिया’ कहकर चिढ़ाती थी। माँ-बाप सामने होते तो प्रतीक्षा स्वयं को रोक लेती थी, पर अकेले में पाकर वो भी उसको एक-दो थप्पड़ रसीद कर देती थी। फिर जब सुप्रिया कहती कि वो थप्पड़ की बात माँ को बताएगी, तो प्रतीक्षा उसे चुप रहने के प्रलोभन भी देती थी।

प्रतीक्षा घर के बाहर खड़ी है। घर के सामने रखे बड़े गमलों में फूल खिले है। सवेरे मोगरा के सफ़ेद फूल अच्छे लग रहे थे। वो उनकी ही तरफ देख रही थी, कि अचानक उसे कन्धे पर हाथ रखे जाने का आभास हुआ। शरीर में एक पल के लिए स्तब्धता उठती है, परंतु ज्यों ही वो मुड़ती है, पूजा को पाती है। पूजा आ गयी थी, पर हांफ रही थी।

“आज फिर तुझसे उठा ना गया क्या?”, सुबह की वार्ता प्रतीक्षा शुरू कर देती है।

“उठ गयी थी। पर फिर वो हिस्ट्री का असाइनमेंट भी तो पूरा करना था।”, पूजा बोलती है।

“आलसी कही की। एक हफ्ते पहले दिया था असाइनमेंट, तू अब तक पूरा ना कर पायी क्या?”

“अब तेरे जैसी पढनतरु तो हूँ नहीं मैं। बस आज सुबह किया पूरा।”

“ना पता तेरा आलसपन कब हिस्ट्री बनेगा। मैं तो…”

इससे पहले की प्रतीक्षा बात पूरी कर पाती, नजदीक आती बस के हॉर्न ने उस पर पूर्ण विराम लगा दिया था।