The useless

Call the girl you liked yesterday.
Fine were things and friends,
Maybe misery turned them away.
The streets are alive again.
You see the day in everything you do.
And as you do things,
You wish it’d be better too.
And as it slips through the fingers
You notice the drop of rain
She wouldn’t notice anyways.

Aren’t you the star,
That shone too bright.
But the night was dark
And you fell down and died.
You are your mess
With a hope she wouldn’t clean anyhow.
Forgotten wannabe seeks a saviour,
But it won’t come.
No, never.
Love won’t save us. Or anyone.

Awards, Answers and Arts

Recently, an awesome human nominated me for a wordpress award. I’m new to these things, so I know little but people nominate each other and they have to answer certain questions. Following is my attempt at answers.

Q.1. Scariest movie you’ve ever seen.

I like movies. A lot. But i don’t like watching scary movies. I can trace it to my childhood. Then, I saw monsters and ghosts behind doors and under the bed, after watching a horror movie. Darkness was evil waiting to scare me. And it would go on for days. I guess I never outgrew that phase. Still, the scariest movie I’ve seen is ‘Purani Haveli.’ Also, please don’t judge my choice of movies from this. Choices were limited then

Q.2. Best book you’ve ever read.

I haven’t read much. Just a little bit of English and Hindi literature. Out of them, Raag Darbari by Shrilal Shukla is the best book I’ve read.

Q.3. Most beautiful place you have ever seen.

My village. It look miserable from outside but it’s home. I also get my stories from here.

Q.4. What’s something you always wanted to do as a child but never got to do it?
A. To a 5 year old kid, cars were mysterious. They were big, cold and colorful. They made loud sound and were fast. That five year old kid also thought about cars would be fun in rains. He wouldn’t have to worry about cold, mum’s dialogues and everything unpleasant which followed rains. To him, driving cars was what he wanted to do.
Come present and that kid is a grown-up kid. He still likes cars, but dislikes driving. He’s seen sane people go insane while driving. He doesn’t like the constant honking on busy roads and thinks life loses itself on roads due to idiots.

Q.5. What’s the dumbest thing you’ve ever cried about?
A. That five-year old kid I talked about, he also liked playing. In school, recess was the only time he had for playing games. Daily, his mother would pack lunch with a stern advice that he would have to eat all of it. He disliked lunch, because eating it meant losing his playtime. So he gave it away to a street dog. Everyday, he found the dog in the playground. The dog would wag his tail forth and back everytime he gave him food. It soon became a habit for him, and the dog.
One day, the dog wasn’t there. The kid searched for him everywhere. He asked people and called for him. Nothing. The dog wasn’t there. He cried that day. He cried while he sat alone, and ate his food while his friends played.

Q.6. If you could break any world record which one would it be?
A. World Record for binge watching movies and tv shows. I’d like to break it.

Q.7. What’s the toughest decision you ever made?
A. The kid. He grew up soon. He passed 10th and he had the classic cliché trouble before him – choosing between arts, science and commerce. Parents weren’t pressuring him for any particular stream. His friends chose Science and Commerce. He asked them for reason. They said arts is for slackers who don’t want to study. He made his decision after that. He chose arts.

Q.8. What’s missing from your life?
A. I miss a lot of things. I miss purpose when I have nothing to do. I miss peace when I walk the city roads. I miss rain when the weather is hot and humid. I miss people when they are gone. Truth is, I miss a lot of things but it is not that I always want them.

अपना तो इहा और उहा, यही ट्रेवल हो लिया

छुट्टियों लगभग बीत चली है। इसका मुझे आभास है, केवल कैलेंडर पर बदलती तारीख से नहीं, पर फेसबुक पर मित्रों की लगातार पोस्ट से भी। हर हफ्ते कहीं जाते है, फ़ोटो खीचते है और हैशटैग ट्रैवल, लाइफ, जर्नी इत्यादि लिखकर डाल देते है। उनकी मौज देखकर मैं और मेरी गली का फ्यूज फूंक जाते है।

कुछ साल पहले हमारे मनीपुर के बाहर खेत-ही-खेत थे। प्रचलित कथा के अनुसार उनमे किसान फसल उगाते थे। फसल उगाने में मेहनत, पानी और बीज बराबर लगता था। किसानों की ये जाति, इनका काम जनता को विचलित करता था। गाँव में अब इनकी जाति विलुप्त हो चुकी है। शायद ये किसी को प्रिय ना थे। इनके विलुप्त होने पर ना तो सरकार ने कोई सड़क या सरकारी भवन इनके नाम किया, ना ही कोई स्कीम निकाली। कोई एनजीओ वाला भी इनकी फ़ोटो खींचने ना आया। किसान किसी को अच्छे ना लगते थे।

किसानों के जाने के बाद गाँव में बड़े-बड़े बिल्डर्स आये। महज एक महीने बाद ही गाँव में डीएलएफ, अंसल, रहेजा और बाकी बिल्डर्स के बड़े-बड़े विज्ञापन लग चुके थे। इन विज्ञापनों में बड़ी इमारते थी,  वेस्टर्न वेशभूषा में झोला लटकाये हंसती कन्याएं थी, हरे-हरे बगीचे थे और चौड़ी सड़को पर भागती कारें थी। बाकी बातों का ज्ञान कम, पर उन कन्याओं ने खुश किया था। सोचा कि इमारतों में अगर ऐसी कन्याएं आई और उनमें से एक भी अगर सहेली बन गयी, तो जिंदगी सफल हो जायेगी।

किसान जा चुके थे। खेत खाली पड़े थे। अब उनमें पूरे दिन रेत उड़ता। बंजर पड़े आँखों को चुभते थे। गांववासियों से खेतों की ये दुर्दशा देखी ना गयी। उन्होंने खेतों का प्रयोग सुबह/शाम की सैर और हगने के लिये किया। इस कार्य में गाँव के प्रत्येक पुरुष, महिला और बच्चों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। मैंने भी इसमें अपना योगदान दिया था। किसानों का चले जाना गाँव के लिए अच्छा ही था। खेतों ने पूरे गाँव को एकजुट कर दिया था। सुबह/शाम की सैर ने गाँव के लोगों को जाति और अमीर-गरीब की संकुचित मानसिकता से ऊपर उठाया था। खेतों में सैर के दौरान कोई ऊंची या नीची जात ना देखता था। जातिवाद को ख़त्म करने में जहाँ बड़े-बड़े महापुरुषों को असफलता मिली थी, वही खेतों ने इसे कुछ ही दिनों में ख़त्म कर दिया था। किसानों का विलुप्त होना अच्छा ही था।

ये महान कार्य कुछ महीनो तक चला। बिल्डर्स के आने के पश्चात ये खत्म हो गया।

किसानो ने खेतों का प्रयोग फसल उगाने के लिए किया था। गांववासियों ने सुबह/शाम की सैर, हगने और एकता स्थापित करने के लिए किया। बिल्डर्स ने खेतो का प्रयोग, बड़ी-बड़ी इमारतों को बनाने के लिए किया।

बिल्डर्स को इमारते बनानी थी। इस कार्य को करने के लिए, वे क्रेनों, ट्रैक्टरों, डम्पर, ईंट-रोड़ी, सीमेंट और भैयालोग को लेकर आये। इन भैयालोग को मैंने दूर से कई बार देखा। ये सदा काम करते रहते। इनके सर पर या तो तसला होता या फिर प्लास्टिक की टोपी। कपड़े इनके सदा पसीने और सीमेंट से गीले रहतें। भैयालोग और इनकी औरतें जब काम करती, तब इनके बच्चे सड़क किनारे पड़े रहते। बिखरे बालों में रेत पड़ा रहता और कपडे ना के बराबर। छोटी झुग्गियों में ये बसते थे, जहाँ बिजली, पानी और हगने का कोई जरिया ना था। इनसे मेरी पहले कभी बात ना हुई थी, आज को छोड़कर।

खेतों के चले जाने के बाद अब शाम की सैर सड़कों पर होती है। छुट्टियों में पूरा दिन घर पर बीतता है। रोज उबाऊपन की हद पार होती है। आज पूरा दिन बीत गया, पर किसी से बात ना हो पायी। दोपहर में पड़ोस वाली औरतो की चुगली सुन लेता था, पर आज उसमें भी मन ना रमा था। बात करने को जी मचल रहा था। पर कोई ना था।

मैं सड़क पर चल रहा था। मेरे आगे एक भैयालोग था। पूरा दिन बात ना होने के कारण मन भारी था। एक दम विचार आया कि आज इसी से बात की जाए। एक बार ये सोचा, तो अगले पल मैं भी बोल चुका था, “और भैया, कैसे हो?”

अचानक बोले जाने पर वो थोडा स्तब्ध हुआ। पर फिर पीछे मुड़कर बोला, “अच्छे है।”

“और बताओ क्या किया आज?”

“बस भैया मजूरी की। अब रुपे मिले तो राशन लाते है।”

“और कहाँ के रहने वाले हो तुम?”

जवाब में उसने बिहार और किसी गाँव का नाम लिया था। मैं याद ना रख पाया, क्योंकि मेरा कोई इरादा ना था।

“और तुम यहां इतनी दूर आये कमाने को?”

“भैया आना पड़ता है। उधर काम नही है।  आप बताओ।”

“कॉलेज में पढता हूँ। तो छुट्टियां चल रही है। अब बस घूम रहा हूँ।”

“भैया अकेले काहे।”

“सारे दोस्त ट्रेवल कर रहे है। कोई मसूरी, कोई शिमला। मैं ना गया। अच्छा तुमने किया है कही ट्रेवल?”

“नहीं भैया। अपना तो बिहार और आपका गाँव, यही ट्रेवल है।”

इससे पहले मैं और बातें पूछता, उसका फ़ोन बज चुका था। जोर-जोर से। फ़ोन शर्ट की जेब से निकालकर वो बात करने लग गया। मैं वापस मुड़कर घर आ गया। वापस आते सड़क से नजर उठाकर देखा। ईमारत बन चुकी थी। बस पेंट करना रह गया था।

Thank You!

I checked out my notifications today. I have fifty followers now. I thank each one of you, for tolerating the nonsense I post often. Also thanks to people who comment and reply to my comments, for it is just good to know.

Two years ago, I made this blog. Then, it was just a place where I would come and complain. It was my escape from real world.

Blogs felt awkward at first. There were blogs which had multitude of followers, posts, comments and likes. I’d like that for myself, I thought then. Who wouldn’t? A constant stream of praise and good things. Everyone would’ve wanted it if they could have it. And there were people who had it. How? What did they do? I didn’t know then and I don’t know now. Maybe it was posts which people found resonating with their inner desires and thoughts. Or people actually like to connect with each other over similar likes. I don’t know. For me, it is things I like and gratitude. Gratitude for people who took time to type each word and helped me have a good time.

I AM A GODDAMN WRITER
I so want to call myself a writer and a poet. I am not. Mind knows a million things I’d like to be. It’s like I want to be everything, without doing anything.

I respect writers and poets. I hold them in high esteem. I’m led to believe, that all people deep down are alike. Confused and dazed in chaos of emotions. Unsure about things they want and their needs. And we do a nice job pretending we are normal. It’s like we hide ourselves from each other. Perhaps our minds make us do it. All of this happens everytime. So when I see one human who has got his/her emotions clear and can talk about them in detail with fellow people. One who can make people realise that it is perfectly fine to be afraid of life and unknown. I believe these people are good human beings.

I must end this post now.
If you’re still reading this, then I’d like you to know that I am thankful to you for time you spent reading this nonsense.

दिल टूटा और पूरी गली में आवाज़ उठी

बिलकुल अभी जागा हूँ। नींद गहरी भी नही हुई थी, कि अचानक हुए शोर ने उठा दिया। उठकर घर से बाहर आया तो देखा कि मैं अकेला ना था। सब अपने घर के बाहर थे। खुसर-पुसर चल रही थी। इनके बीच, वो शोर जोर-जोर से रोने की आवाज़ में तब्दील हो गया था।

मुझे ये जानने में रूचि ना थी कि इतना रोया क्यों जा रहा है या फिर सब अपने घर के बाहर क्यों है। दूसरो की खोज-खबर क्या रखता जब मेरी खुद की दुनिया ख़त्म हो रही थी। सोने से पहले एक दोस्त ने बताया था कि मेरे क्रश की शादी की तैयारी शुरू हो चुकी थी। उसके घरवालों ने उसका रिश्ता तय कर दिया था। ये सुनकर पहले तो अपने दोस्त को कोसा कि उसकी जुबान काली है, फिर उसके घरवालों को कोसा और अंत में दुनिया को बुरा-बुरा कहा। मुझे गुस्सा आ रहा था अपने आप पर और उसके घरवालों पर। उसके माँ-बाप अव्वल दर्जे के कंजर लग रहे थे। उसकी उम्र कोई 19 बरस भी मुश्किल होगी, कि शादी का प्लान बना दिया। जैसे कि वो बूढी गाय हो चली थी जो अब दूसरे के गले डालनी थी। मेरे प्यार का परिंदा उड़ा भी ना था, इससे पहले उसके किसी ने पर काट दिए थे। मैं असहाय था, बिल्कुल शोले के ठाकुर की तरह। चित्त में आया था कि गाँव की पानी की टंकी पर चढ़कर उसे माँगू। फिर याद आया कि गाँव में कोई पानी की टंकी नही है और ऐसी गर्मी में कोई अपने ए०सी० वाले कमरो से ना निकलेगा। ऊपर पंखा अपनी चाल चल रहा था, नीचे मैं बेहाल हो रहा था। कुछ बस में ना था। अंत में झक मारकर सो गया।

*****

जनता खुसर-पुसर कर रही थी। एक से पूछा तो पता लगा कि अगली गली में कनखू मर गया था। उसी के परिवार वाले रुदन कर रहे थे।

रविवार का दिन है। छुट्टी है। सब फुरसत में है। सब को आज ही मरना है, रोना है, रिश्ता तय करना है, दिल तोडना है और मुझे कड़वाहट का एहसास दिलाना है। कहते भी है कि फुरसत का काम इंसान का और जल्दबाज़ी का काम शैतान का।

कनखू की बात करुँ तो उससे जीवन में बात कम, पर उसके बारे में बात बहुत सुनी। वो देसी दारू का मग्गा मारके पांच  खेतो को भी एक बार में जोत देने के लिए मशहूर था। लोग तो यहाँ तक कहते थे कि वो पूरा मग्गा एक सांस में गटक जाता है। लोगो की बातें कितनी सच और कितनी झूठ, ये तो शायद उन्हें भी ना पता हो। खुद की बात करू तो आखरी बार उसे रेल स्टेशन के नजदीक देखा था। एक पेड़ तले पड़ा था। मुँह पर मक्खियां भिनभिना रही थी। पैरो में चप्पल ना थी। कपड़े तार-तार थे। बालों में रेत भरा पड़ा था। शायद अफवाह थोड़ी सच थी, और वो मग्गा मारके पड़ा था। थोड़ी दूर निकल जाने के बाद मुड़कर नजर डाली तो मक्खियां नजर से ओझल थी और उसकी बद-हालत छुप सी गयी थी। पेड़ के नीचे मानो आराम वाली नींद सो रहा था। बस वो दिन और आज का दिन, वो सो ही रहा है। बस उस वक़्त उसके आसपास भीड़ ना थी, मक्खियां थी।

बचपन में मैं और उसका लड़का, हम दोनों साथ खेलते थे। कंचा, गली वाली बैट-बॉल, पिट्ठू-गिंडी; बहुत खेल खेले थे हमने। मशहूर चलन है कि दारु वाले घर में क्लेश रहता है। सब इससे पीड़ित रहते है चाहे वो माँ-पिता हो या बच्चे। अब इस बात को ध्यान करुँ और पीछे का वाकया टटोलूँ तो पाता हूँ कि ऐसा कुछ ना था। वो मुझसे ज्यादा मोटा था। भागता भी मुझसे तेज था। पढाई का पता ना, मुझसे पीछे था दर्जे में। और कुछ ध्यान ना, बड़े होते हमारे मित्तर और वक़्त बिताने के साधन बदल चुके थे। पर जब भी उसे देखा, दूर से मौज में पाया।

अब मुझे उसके ऊपर रुदन बुरा लगता है। कानों में इसका स्वर घुसे आता है। लोगो और दुनिया पर फिर गुस्सा आता है। दोगलेपन की भी हद होती है। जब जिन्दा था तब किसी से ना सुध ना ली थी। सब बिजी थे। उलझे हुए थे जिंदगी में। अब मरणोपरांत क्या दिखा रहे है, खुद जाने।

*****

शाम हो आई है। अब किसी की आवाज़ ना आती है। बस पंखे की चर्र-चर्र सुनाई देती है।

मैं अभी भी गुस्से में हूँ। ये क्षणिक आवेश है, जानता हूँ वक़्त के साथ निकल जायेगा। दिन की गर्मी कुछ भारी भी लगने लगी है। विचार बिजली की तरह आ-जा रहे है। कभी उस पर, खुद पर, तो दुनिया पर गुस्सा आता है। उस पर गुस्सा जायज़ नही है। वो मेरे ख्यालो से अनभिज्ञ है। उसे मेरे वजूद का भी ख्याल ना होगा। गलती उसकी नही है, पर फिर भी मेरे क्रोध की भागी है। कम उम्र में ब्याह जरूर उसकी मर्जी के खिलाफ हो रहा होगा। बेचारी के सारे स्वपन टूटकर बिखर गए होंगें। अपने विवाह और अपने  माँ-पिता के बीच कैसे अपने आपको समेटती होगी वो। बिल्कुल गौ जैसी निरीह है, चुप रहेगी पर अपनी व्यथा ना कहेगी। इन सबके बावजूद क्रोध है। दुनिया पर यूँ है कि सब इसका छलावा है। सामाजिक बन्धनों को खोल दे तो मनुष्य एक-दूसरे को ख़त्म कर दे। पर फिर भी इस छलावे के सब बराबर भागीदार है। मैं, वो और सब इंसान। सब इसमें एक साथ है।

मेरे क्रोध का कोई कारण नही है। उसके विवाह का मेरे लिए कोई कारण नहीं है। दुनिया के चलने का भी कोई कारण नहीं है।

बिना किसी कारण के इस छलावे से मुक्ति, शायद मृत्यु का यही कारण है।

दिल टूटा और पूरी गली में आवाज़ उठी

बिलकुल अभी जागा हूँ। नींद गहरी भी नही हुई थी, कि अचानक हुए शोर ने उठा दिया। उठकर घर से बाहर आया तो देखा कि मैं अकेला ना था। सब अपने घर के बाहर थे। खुसर-पुसर चल रही थी। इनके बीच, वो शोर जोर-जोर से रोने की आवाज़ में तब्दील हो गया था।

मुझे ये जानने में रूचि ना थी कि इतना रोया क्यों जा रहा है या फिर सब अपने घर के बाहर क्यों है। दूसरो की खोज-खबर क्या रखता जब मेरी खुद की दुनिया ख़त्म हो रही थी। सोने से पहले एक दोस्त ने बताया था कि मेरे क्रश की शादी की तैयारी शुरू हो चुकी थी। उसके घरवालों ने उसका रिश्ता तय कर दिया था। ये सुनकर पहले तो अपने दोस्त को कोसा कि उसकी जुबान काली है, फिर उसके घरवालों को कोसा और अंत में दुनिया को बुरा-बुरा कहा। मुझे गुस्सा आ रहा था अपने आप पर और उसके घरवालों पर। उसके माँ-बाप अव्वल दर्जे के कंजर लग रहे थे। उसकी उम्र कोई 19 बरस भी मुश्किल होगी, कि शादी का प्लान बना दिया। जैसे कि वो बूढी गाय हो चली थी जो अब दूसरे के गले डालनी थी। मेरे प्यार का परिंदा उड़ा भी ना था, इससे पहले उसके किसी ने पर काट दिए थे। मैं असहाय था, बिल्कुल शोले के ठाकुर की तरह। चित्त में आया था कि गाँव की पानी की टंकी पर चढ़कर उसे माँगू। फिर याद आया कि गाँव में कोई पानी की टंकी नही है और ऐसी गर्मी में कोई अपने ए०सी० वाले कमरो से ना निकलेगा। ऊपर पंखा अपनी चाल चल रहा था, नीचे मैं बेहाल हो रहा था। कुछ बस में ना था। अंत में झक मारकर सो गया।

*****

जनता खुसर-पुसर कर रही थी। एक से पूछा तो पता लगा कि अगली गली में कनखू मर गया था। उसी के परिवार वाले रुदन कर रहे थे।

रविवार का दिन है। छुट्टी है। सब फुरसत में है। सब को आज ही मरना है, रोना है, रिश्ता तय करना है, दिल तोडना है और मुझे कड़वाहट का एहसास दिलाना है। कहते भी है कि फुरसत का काम इंसान का और जल्दबाज़ी का काम इंसान का।

कनखू की बात करुँ तो उससे जीवन में बात कम, पर उसके बारे में बात बहुत सुनी। वो देसी दारू का मग्गा मारके पांच  खेतो को भी एक बार में जोत देने के लिए मशहूर था। लोग तो यहाँ तक कहते थे कि वो पूरा मग्गा एक सांस में गटक जाता है। लोगो की बातें कितनी सच और कितनी झूठ, ये तो शायद उन्हें भी ना पता हो। खुद की बात करू तो आखरी बार उसे रेल स्टेशन के नजदीक देखा था। एक पेड़ तले पड़ा था। मुँह पर मक्खियां भिनभिना रही थी। पैरो में चप्पल ना थी। कपड़े तार-तार थे। बालों में रेत भरा पड़ा था। शायद अफवाह थोड़ी सच थी, और वो मग्गा मारके पड़ा था। थोड़ी दूर निकल जाने के बाद मुड़कर नजर डाली तो मक्खियां नजर से ओझल थी और उसकी बद-हालत छुप सी गयी थी। पेड़ के नीचे मानो आराम वाली नींद सो रहा था। बस वो दिन और आज का दिन, वो सो ही रहा है। बस उस वक़्त उसके आसपास भीड़ ना थी, मक्खियां थी।

बचपन में मैं और उसका लड़का, हम दोनों साथ खेलते थे। कंचा, गली वाली बैट-बॉल, पिट्ठू-गिंडी; बहुत खेल खेले थे हमने। मशहूर चलन है कि दारु वाले घर में क्लेश रहता है। सब इससे पीड़ित रहते है चाहे वो माँ-पिता हो या बच्चे। अब इस बात को ध्यान करुँ और पीछे का वाकया टटोलूँ तो पाता हूँ कि ऐसा कुछ ना था। वो मुझसे ज्यादा मोटा था। भागता भी मुझसे तेज था। पढाई का पता ना, मुझसे पीछे था दर्जे में। और कुछ ध्यान ना, बड़े होते हमारे मित्तर और वक़्त बिताने के साधन बदल चुके थे। पर जब भी उसे देखा, दूर से मौज में पाया।

अब मुझे उसके ऊपर रुदन बुरा लगता है। कानों में इसका स्वर घुसे आता है। लोगो और दुनिया पर फिर गुस्सा आता है। दोगलेपन की भी हद होती है। जब जिन्दा था तब किसी से ना सुध ना ली थी। सब बिजी थे। उलझे हुए थे जिंदगी में। अब मरणोपरांत क्या दिखा रहे है, खुद जाने।

*****

शाम हो आई है। अब किसी की आवाज़ ना आती है। बस पंखे की चर्र-चर्र सुनाई देती है।

मैं अभी भी गुस्से में हूँ। ये क्षणिक आवेश है, जानता हूँ वक़्त के साथ निकल जायेगा। दिन की गर्मी कुछ भारी भी लगने लगी है। विचार बिजली की तरह आ-जा रहे है। कभी उस पर, खुद पर, तो दुनिया पर गुस्सा आता है। उस पर गुस्सा जायज़ नही है। वो मेरे ख्यालो से अनभिज्ञ है। उसे मेरे वजूद का भी ख्याल ना होगा। गलती उसकी नही है, पर फिर भी मेरे क्रोध की भागी है। कम उम्र में ब्याह जरूर उसकी मर्जी के खिलाफ हो रहा होगा। बेचारी के सारे स्वपन टूटकर बिखर गए होंगें। अपने विवाह और अपने  माँ-पिता के बीच कैसे अपने आपको समेटती होगी वो। बिल्कुल गौ जैसी निरीह है, चुप रहेगी पर अपनी व्यथा ना कहेगी। इन सबके बावजूद क्रोध है। दुनिया पर यूँ है कि सब इसका छलावा है। सामाजिक बन्धनों को खोल दे तो मनुष्य एक-दूसरे को ख़त्म कर दे। पर फिर भी इस छलावे के सब बराबर भागीदार है। मैं, वो और सब इंसान। सब इसमें एक साथ है।

मेरे क्रोध का कोई कारण नही है। उसके विवाह का मेरे लिए कोई कारण नहीं है। दुनिया के चलने का भी कोई कारण नहीं है।

बिना किसी कारण के इस छलावे से मुक्ति, शायद मृत्यु का यही कारण है।

Short Story : माँ, शादी उलझन है (भाग – 2)

आज सातवाँ पीरियड गेम्स का था।

किसी पीरियड के वेकंट होने पर चलन था कि प्रिंसिपल मैडम किसी टीचर को भेज देती थी। आज जब हिस्ट्री की पुष्पा मैडम अनुपस्थित थी, तो प्रिंसिपल मैडम ने संजय सर को भेज दिया था। संजय सर पीटीआई थे। स्वभाव के शांत पर हट्ठी। आरम्भ में उन्हें गेम्स पीरियड के लिए मनाना मुश्किल था। क्लास के लड़को ने पढाई के प्रेशर से लेकर सब्जेक्ट की अच्छी तैयारी तक, सारी बातें कह दी थी। पर संजय सर का एक ही कथन था, “लड़को मैं तुम्हारी बात समझता हूँ। पर अकेले तुम्हारे कहने पर गेम्स पीरियड लगाना सही नही है।” फिर जब लड़कियों ने भी खेलने की इच्छा जताई, तो संजय सर के पास कोई बहाना शेष ना था।

लड़के फुटबॉल खेल रहे थे। लड़कियां पेड़ की छाँव में बैठी थी। प्रतीक्षा और पूजा, दोनों बैठकर घास की पाँख तोड़ रहे थे।

“तुझे पता है कल ‘सिया और हाथी’ में क्या हुआ?”, पूजा घास की और देखते हुए पूछती है।

“मुझे क्या पता। पूजा तुझे पता है ना कि मैं ये ‘सिया और हाथी’ और बाकी फ़ालतू शो ना देखती हूँ।”, प्रतीक्षा बोली।

“रहने दे तू,” पूजा ने नजर उठाई और प्रतीक्षा की ओर देखकर बोली, “सुप्रिया बता रही थी तेरे बारे में।”

अचानक राज खुलने पर प्रतीक्षा के मुख पर हैरानी के भाव उभर आये। सुप्रिया उस की दो साल छोटी बहन थी।

“झूठ बोलती होगी वो।”, अंत के क्षणों में भी स्वयं के बचाव में प्रतीक्षा बोल पड़ी।

“अब छोड़ ना ये दिखावा। बता कल का एपिसोड देखा तूने।”

“हां, देखा। बेचारी सिया का कैसे उस मोटे के साथ ब्याह कर दिया।”

“सही तो किया। वो भले हो मोटा, पर तूने पहले के एपिसोड में उसके गुण ना देखे क्या?”

“कैसे गुण?”

“वो छोटे बच्चों के साथ कितने प्यार से खेलता है। माँ-बाप का कितना लिहाज करता है। और तो, पूरा मोहल्ला कितना अच्छा बोलता है उसके बारे में। ये गुण।”

“तो इन गुणों का क्या है। सिर्फ इनके सहारे जीवन थोड़ी जिया जाता है। आदमी को दिखने में सलोना भी होना चाहिए।”

“देखने-दिखने में इंसान कुछ वक़्त बाद ऊब जाता है। पर गुण, मेरी प्रतीक्षा, आगे यही मायने रखते है।”

“ये कैसी बात कर रही है तू?”

“मेरे भैया-भाभी है ना। शादी से पहले दोनों एक-दूसरे से दूर ना हटते थे, सदा संग रहते थे। पर अब तू देख उन्हें, दोनों दिन भर के बाद जब मिलते है, मुश्किल से चार बात करते है।”

“पर…”

प्रतीक्षा के बात कहने से पहले ही, उन दोनों के पास फुटबॉल आकर गिरती है।

“ऐ पूजा। फुटबॉल दे जरा।” दूर से अविनाश बोला था।

“खुद ले जा।”

अगले पल पूजा प्रतीक्षा का हाथ पकड़कर उसे उठा ले गयी थी। प्रतीक्षा चल तो दी थी, पर उसने फुटबॉल की तरफ एक नजर देखा था। शायद उसने फुटबॉल देनी चाही थी।

*****

रात का वक़्त है। प्रतीक्षा टीवी के सामने जमी बैठी है।

“प्रतीक्षा रोटी बन गई। ले जा।” माँ रसोई से बोलती है।

“हां, आती हूँ।” टीवी के सामने बैठी प्रतीक्षा बोलती है।

थोड़ी देर बाद, माँ फिर बोलती है, ” सुप्पी, तू आकर ले जा खाना। इसको तो फुरसत ना।”

यह हर रात का रूटीन था। जैसे ही सात बजते, प्रतीक्षा टीवी के सामने बैठ जाती और तीन घण्टे बाद ही उठती। इन तीन घण्टो में, उसे किसी चीज की सुध ना रहती थी। वो खाना खा ले, माँ को कई बार टीवी भी बन्द करना पड़ता था। माँ और सुप्रिया, दोनों अनजान थे कि प्रतीक्षा को क्या दिखता था टीवी में। एक दिन पूजा ने उसकी इस आदत का हल्का-फुल्का मजाक बनाया था तो पूजा पूरे दिन उससे ना बोली थी। पता नही क्या था टीवी में जिस कारण प्रतीक्षा अपनी दुनिया भूल जाती थी।

“ऐ चुहिया, ले खाना खा ले।” सुप्रिया ने उसके सामने प्लेट रखते हुए कहा।

“हां खाती हूँ।” खोई हुई प्रतीक्षा बोली।

“खा ले जल्दी।” सुप्रिया बोली, “तेरा हीरो कहीं ना भागकर जाने वाला।”

इस बात पर प्रतीक्षा झल्ला उठी। आवेश में उठी और बोली, “माँ समझा लो इसे। फिर मेरे साथ मजाक कर रही है।”

“माँ मैंने कुछ ना किया। खाना खाने को कहा तो ये चिल्ला उठी।”

“माँ ये झूठ बोल रही है। इसने मेरे हीरो के बारे में बोला।”

“माँ झूठ ये बोल रही है। मैंने बस खाना खाने को कहा था।”

इससे पहले कि स्वयं के बचाव में और दलीलें पेश होती, कमरे में माँ का स्वर गूँज उठता है, “ऐ कनजरियों, दोनों चुप हो जाओ। सारा घर सर पे उठा रखा है। पढ़ने-लिखने के वक़्त कुछ ना करती दोनों, वैसे रौला कितना करवा लो। आन दो तुम्हारे पापा को।”

माँ की आवाज़ तेज और टीवी के कार्यक्रम की बैकग्राउंड स्कोर से भी ज्यादा उँची थी।

अगले पल दोनों बहने खाना खा रही थी। टीवी की वॉल्यूम भी कम हो गयी थी।